Posts Tagged With: HORROR

दुनिया के इन 10 महलों के दिलकश हैं नजारे लेकिन, सबसे डरावने ये ही

World`s Most Dangerous Cities - Top 10 | Vijayrampatrika.com》दुनियां 360° news Desk: दादी – नानी से भुतही कहानियां आपने भी सुनी होंगी। कभी सोचा भी होगा कि ये सब रीयल होता है या सिर्फ रील तक ही। आस-पडौस में किसी पीडित को देखा होगा होगा, जिस पर ओझा (सयाना/तांत्रिक) ने ऊपरी चक्कर का साया बताया हो। फिर झाड़-फूंक की होगी, बच्चों को अमुक व्यक्ति से दूर रहने को कहा होगा।

डर, रहस्य और बेचैनी की यह वजहें क्या महज इत्तेफाक हैं? नहीं ताे फिर लोग कुछ स्थानों पर जाने से डरते क्यों हैं? क्यों कुछ प्लेस भुतही माने गए हैं, क्या वहां वाकर्इ में खतरनाक परिस्थितियों से गुजरना पड़ सकता है? इन कुछ सवालों के जवाब तलाशने के लिए यहां बतार्इ गयी दुनिया की 10 मिस्ट्री से भरपूर जगहों पर जाने की जरूरत हो सकती है…

 Vijayrampatrika.com आज़ आपको ले चल रहा है भारत के बाहर, कुछ ऐसे महलों तक जहां सालों से सन्नाटा छाया हुआ है। अक्सर प्रेम जाहिर करने के लिए किसी एकांत जगह जाने को आतुर प्रेमी (कपल) भी वहां नहीं पहुंचते। तो कहीं चमगादड़, पतोरी और जहरीले जीवों की चिल्लाहट ही सुनार्इ देती हैं। एडवेंचर के शौकीन कुछ ही लोग इधर रुख करते हैं, मगर तमाम शंकाओं के बीच:

1. एडिनबर्ग कैसल, स्कॉटलैण्ड
Edinburgh Castle, Scotland
यूनार्इटेड किंगडम (ब्रिटेन) में एक मध्ययुगीन महल के बारे में कर्इ कहानियां प्रचिलित हैं। यह महल देखने में जितना खूबसूरत है, उससे कहीं अधिक नेग्लेक्टेड भी। पहाडी़ पर स्थित एडिनबर्ग कैसल के आसपास बेहद हरियाली और पेडों के झुरमुठ हैं। इसका आर्किटेक्चर भी आकर्षक है। लेकिन इसे ‘मैडेन कैसल’ (Maidens Castle) क्यों कहते हैं, इसके पीछे राज बताए गए हैं।
कहा जाता है कि अमेरिकी स्वतंत्रता संग्राम के दौरान मारे गए लोगों के घोस्ट यहां रहते हैं। जिनकी प्लेग महामारी से तड़प-तडप कर जानें गर्इ थीं, उनकी रूह की आवाजें सुनी गर्इ हैं। कुत्तों जैसी अजीब चीखें सुनने का दावा कर्इ एंकर कर चुके हैं। यहां के फोटो ड्रोन से लिए जाते हैं, जबकि महल के अंदर कोर्इ जाता नहीं है। 16वीं सदी में इसका निर्माण हुआ था।

दिए गए फोटोज़ छुएं और अंदर स्लाइड्स में जानें दुनिया की ऐसी ही अन्य मोस्ट सेक्रेट, नेग्लेक्टेड एंड हॉरर साइट्स के बारे में……….

Advertisements
Categories: 》TOP 10 | Tags: | Leave a comment

Blog at WordPress.com.

%d bloggers like this: