Posts Tagged With: Mahabharat

इस पर्वत को पार कर स्वर्ग पहुंचे थे पांडव, जानें क्या-क्या हुआ था रास्ते में

pandavas reach the heaven after cross this mountain it happened on the way》जीवन दर्शन Desk: भारतीय संस्कृति में पर्वतों का महत्व युगों से रहा है। कर्इ ऐसे पर्वत यहां अब भी अस्तित्व में हैं, जिनका वर्णन धर्म ग्रंथों में किया गया है। कोर्इ पहाड़ अपने प्राकृतिक सौंदर्य और शांति-सौहाद्रि के लिए जाना जाता है तो किसी की पूजा-परिक्रमा होती है। आज हम आपको उस पर्वत के बारे में बता रहे हैं, जिसे पार कर पांडव स्वर्ग गए थे।

इस पर्वत से होते हुए पांडवों ने किया स्वर्गगमन
Himalaya’s hill – On the trail of Pandavas to Heaven
महर्षि वेदव्यास द्वारा रचित महाभारत के अनुसार, स्वर्ग जाने की यात्रा के दौरान पांडवों ने हिमालय पर्वत पार किया था। इसे लांघ कर जब पांडव आगे बढ़े तो उन्हें बालू का समुद्र दिखाई दिया। इसके बाद पांडवों ने सुमेरु पर्वत के दर्शन किए। इसके आगे चलते हुए अंत में केवल युधिष्ठिर ही सशरीर स्वर्ग जा पाए।

जानिए कहां है हिमालय पर्वत
हिमालय एक पर्वत तंत्र है, जो भारतीय उपमहाद्वीप को मध्य एशिया और तिब्बत से अलग करता है। यह पर्वत तंत्र मुख्य रूप से तीन समानांतर श्रेणियों- महान हिमालय, मध्य हिमालय और शिवालिक से मिलकर बना है, जो पश्चिम से पूर्व की ओर एक चाप की आकृति में लगभग 2500 किमी की लंबाई में फैली हैं।
हिमालय पर्वत पांच देशों की सीमाओं में फैला है। ये देश हैं- पाकिस्तान, भारत, नेपाल, भूटान और चीन। हिमालय पर्वत की एक चोटी का नाम बन्दरपूंछ है। यह चोटी उत्तराखंड के टिहरी गढ़वाल जिले में स्थित है। इसकी ऊँचाई 20,731 फुट है। इसे सुमेरु भी कहते हैं। अब ये फोटोज़ छुएं और अंदर स्लाइड्स में पढ़िए-

– किसने दिया था पांडवों को परलोक जाने का विचार?
– अर्जुन से किसने कहा था अपना धनुष त्यागने के लिए?
– सबसे पहले कौन गिरा था स्वर्ग जाने के रास्ते में?
– किसे अपने साथ स्वर्ग ले जाना चाहते थे युधिष्ठिर?
– देवदूत कहां लेकर गया था युधिष्ठिर को?
– युधिष्ठिर को क्यों देखना पड़ा नरक?
– युधिष्ठिर ने स्वर्ग में कौन का अद्भुत दृश्य देखा?

Advertisements
Categories: 》जीवन दर्शन | Tags: | Leave a comment

Blog at WordPress.com.

%d bloggers like this: