मुर्गा महादेव मंदिर, इस अजीबोगरीब नाम के पीछे जुड़ी है एक कहानी

Murgamahadev: It is situated by the side of a perennial spring of Thakurani hill in Champua Sub-Division of Keonjhar District. It is famous for the temple of Murga Mahadev. The spot is 70 kms. From Keonjhar ( of this 6 kms, fair-weather road). Regular service buses are available upto Bileipada (64 kms) from Keonjhar. No accommodation facilities is available at the spot. Tourist will have to stay either at Joda (11 kms) or at Keonjhar ( 70 kms).》जीवन दर्शन Desk: मुर्गा महादेव मंदिर भगवान शिव को समर्पित है। मंदिर का यह धार्मिक महत्व है या आस्था है कि यहां लोगों की मनोकामनाएं पूरी होती है। लाखों की संख्या में भक्त यहां श्रावण, कार्तिक और शिवरात्रि के समय दर्शन-पूजन के लिए आते हैं।

Murga Mahadev Mandir – Amazing Temples
भारत सहित दुनिया के शिव मंदिरों में शिव महारात्रि वृत पर्व मनता है। इस बार यह पर्व 7 मार्च 2016, सोमवार को है। इस मौके पर Vijayrampatrika.com आपको बता रहा है मुर्गा महादेव मंदिर के बारे में।

मुर्गा महादेव मंदिर झारखंड के पश्चिमी सिंहभूम और ओड़िशा की सीमा पर नोआमुंडी शहर से 5 किलोमीटर दूर खनन क्षेत्र के मुगा बेड़ा गांव में स्थित है। ओड़िशा के क्योंझर शहर से इसकी दूरी 70 किलोमीटर है। टाटा नगर से रेल मार्ग के जरिए नोवामुंडी स्टेशन पर उतर कर करीब 15 किमी दूर पैदल या फिर निजी वाहन से यहां पहुंचा जा सकता है। यह एक प्राचीन तीर्थस्थल है जहां आदिवासी और ब्राह्मण; दोनों पूजन विधियों का पालन किया जाता है। आस-पास स्थित जल प्रपात इस स्थान को अद्भुत सौंदर्य प्रदान करते हैं। इसलिए तीर्थयात्रा के अलावा हर साल जाड़े में लोग यहां पिकनिक के लिए भी आते हैं।

दिए गए फोटोज़ छुएं और अंदर स्लाइड्स में जानिए क्यों पड़ा यह अजीबोगरीब नाम और मंदिर के पीछे की क्या है कहानी।
यह भी पढें: भगवान शिव से जुडे़ अन्य अनोखे तीर्थस्थलों के बारे में भी जान सकते हैं आप, ये लिंक क्लिक कीजिए….

यहां हिंदु नहीं मुसलमान भी करते हैं शिव पूजा, जानिए क्या है वजह
अमरनाथ यात्रा: पहाडों के सौंदर्य से भरपूर इन 9 जगहों के करें दर्शन
अमर नाथ यात्रा के ये रहस्य बहुत कम लोगों को मालूम हैं, जानिए आप
स्वर्ग का द्वार कही जाती है ये गुफा, लग रहा जैसे शिव की जटाओं में गंगा

Advertisements
Categories: 》जीवन दर्शन | Tags: | Leave a comment

Post navigation

Call or paste your point here.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Blog at WordPress.com.

%d bloggers like this: