》दुनियां 360°

The fresh news of the nation and global, About or Interesting facts for all Countries. you see them in section…

OMG : ये है भुतहा रेलवे स्टेशन, 41 सालों में ही हो गया था बंद, जानें क्यों?

Ghost Subway Stationभूत-प्रेतों की कहानियां और उनसे जुड़ी घटनाएं आए दिन सुनने को मिलती रहती है। कभी किसी खंडहर में तो कभी महल, बावड़ी या फिर अस्पताल में आत्माओं का वास होने की खबरें आती हैं। ऐसी एक खबर न्यूयॉर्क के सब-वे रेलवे स्टेशन के बारे में है। कहा जाता है कि इस आलीशान सब-वे रेलवे स्टेशन को सिर्फ इसलिए बंद कर दिया गया, क्योंकि यहां भूतों का डेरा था। लेकिन आधिकारिक तौर पर इसे बंद करने की वजह इसकी घुमावदार पटरियां और खतरनाक मोड़ थे।

बता दें कि सिटी हॉल सब-वे रेलवे स्टेशन न्यूयॉर्क के ब्रुकलिन ब्रिज स्टेशन के पास है, जिसे खोलने के 41 सालों में बंद कर दिया गया। यह स्टेशन अब सिर्फ शो पीस बनकर रह गया है। उल्लेखनीय है कि स्टेशन को बनाने में काफी समय लगा और इसे बहुत ही खूबसूरत तरीके से डिजाइन किया गया था, लेकिन इसके अंदर बनी घुमावदार पटरियां और मोड़ इतने खतरनाक थे कि इन्हें गाड़ियों के लिए असुरक्षित माना गया। अंततः अधिकारियों द्वारा निर्णय लिया गया कि इसे बंद कर दिया जाए।

इस स्टेशन को वैलेंशियन आर्किटेक्ट राफेल गोस्ताविनो द्वारा डिजाइन किया गया था, जो अपने आप में यूनिक था। सबसे पहले 27 अक्टूबर 1904 में इस सब-वे स्टेशन पर चलने वाली गाड़ी पर फाइनेंसर्स और अधिकारी सवार हुए। इस दौरान बड़ी संख्या में प्लेटफॉर्म पर पुलिसकर्मी सुरक्षा के लिए खड़े थे। हालांकि, 41 साल बाद 1945 में बंद कर दिया गया। देखें एक बड़ी तस्वीर में न्यूयॉर्क का सब-वे रेलवे स्टेशन …

Advertisements
Categories: OMG | Tags: | Leave a comment

ये रहा रहस्यमयी कुआं: जमीन के अंदर से निकलती है रोशनी, पूरी होती है इच्छा

The Mysterious Inverted Tower, pics #Vijayrampatrika.comदुनिया में ऐसी कई अजीबोगरीब और रहस्यमय जगहें हैं, जिनपर यकीन करना मुश्किल होता है। ऐसी ही एक अमेजिंग जगह पुर्तगाल के सिन्तारा के समीप स्थित कुआं हैं, जिसमें जमीन के अंदर से रोशनी निकलती है और बाहर की ओर आती है। यह कुआं क्यूंटा डा रिगालेरिया के पास है, जिसकी बनावट भी अजीब है।

बता दें कि इस कुएं की गहराई चार मंजिला इमारत के बराबर है, जो जमीन के अंदर जाते हुए संकरी होती जाती है। हैरानी की बात यह है कि इस कुएं के अंदर प्रकाश की कोई व्यवस्था नहीं है। ऐसे में रोशनी कहां से आती है यह रहस्य है। लेडीरिनथिक ग्रोटा नाम का यह कुआं दिखने में उल्टे टॉवर की तरह है।

इसे विशिंग वेल भी माना जाता है। लोग इसमें सिक्का डालकर मन्नत मांगते हैं। माना जाता है कि ऐसा करने से इच्छा पूरी होती है। हालांकि, जो भी पर्यटक यहां घूमने आते हैं, उनके बीच हमेशा यह सवाल उठता है कि कुएं के अंदर से आने वाली रोशनी कहां से आती है। लेकिन आज तक यह रहस्य अनसुलझा है। निम्नांकित फोटो पर क्लिक कर देखें इस रहस्यमय कुएं की एक और बड़ी तस्वीर …

Categories: OMG | Tags: | Leave a comment

रहस्यों से भरी है यह जगह, खुद ब खुद पत्थरों पर बन गए हैं कई कुएं

amezing rock cuts in hazaribagh》दुनियां 360° Desk: चुंदरू नदी और टंडवा नदी के संगम स्थल पर पत्थरों के एक प्राकृतिक स्वरूप को देखकर लोग रोमांचित होते हैं। आइए जानते हैं क्यों, अाखिर ऐसा क्या है यहां?

रांची@NEWS. झारखंड के हजारीबाग और चतरा जिले के बॉर्डर पर स्थित चुंदरू खावा रहस्यमयी तथ्यों से भरा हुआ है। विशालकाय पत्थरों पर बनी आकृति, हाथी और बाघ के पदचिन्ह और पत्थरों के बीच से निर्मल जल के प्रवाह ने इस स्थल को दर्शनीय बना दिया है। पत्थरों पर प्राकृतिक रूप से कई कुएं बने हुए हैं। जहां सालों भर पानी रहता है। कुछ कुएं तो ऐसे हैं, जिसकी गहराई का पता आज तक किसी को नहीं लग पाया है।

चुंदरू धाम के नाम से जानते हैं लोग इसे
GOD’S OWN HILL (Rock cut temples of Hazaribagh
अब तो यहां विशालकाय प्रस्तर पर सूर्य मंदिर का भी निर्माण हो चुका है। इसी परिसर में धर्मशाला, अतिथि शाला और हवन कुंड निर्मित है। शादी समारोह और यज्ञ आदि होते रहने से यह स्थल काफी रमणीय हो चुका है। लोग इसे चुंदरू धाम के नाम से भी जानते हैं।

लोग होते हैं रोमांचित
चुंदरू नदी और टंडवा नदी के संगम स्थल पर पत्थरों के इस प्राकृतिक स्वरूप को देखकर लोग रोमांचित होते हैं। वहां एक बार जो पहुंचता है, तस्वीरें खिंचवाना नहीं भूलता है। यहां का विहंगम दृश्य फिल्मों की शूटिंग के लिए भी काफी उपयुक्त माना जाता है। बहरहाल जो भी हो यह स्थल धार्मिक, भौगोलिक और पुरातात्विक दृष्टिकोण से काफी महत्वपूर्ण हो गया है।

दिए गए फोटोज़ छुएं और अंदर स्लाइड्स में पढें कहां है यह स्थल और किसे कहा जाता है ‘रॉक कट केव्स’….

Categories: 》दुनियां 360° | Leave a comment

FUTURE PlANNING: दुनिया के किसी भी कोने में पहुंचने में लगेंगे सिर्फ 4 घंटे

hypersonic planeक्या आपने कभी सोचा है कि आने वाले कुछ सालों में आप दुनिया के किसी भी हिस्से की दूरी महज चार घंटे की हवाई यात्रा से नाप सकेंगे। ध्वनि से पांच गुना तेज रफ्तार से चलने वाले इस प्लेन को विकसित करने में ब्रिटेन की एक एयरोस्पेस कंपनी जुटी है। 300 यात्री बैठ सकेंगे। इंजन प्रणाली के साथ काम करने वाले रिएक्शन इंजन प्लेन को रूट दिखाएंगे। 276 फीट लंबे इस एयरक्राफ्ट की कीमत 1.1 बिलियन डॉलर होगी। इसे स्काइलॉन नाम दिया गया है। 2019 में इसकी परीक्षण उड़ानें शुरू होंगी।

आने वाला है स्काइलॉन
* 2019 में होगी टेस्ट फ्लाइट
* 300 यात्री बैठ सकेंगे इसमें
* 276 फीट होगी इसकी लंबाई
* 110 करोड़ डॉलर (करीब 6,930 करोड़ रु.) होगी कीमत

काफी क्षमता होगी
इस परियोजना के मुख्य अभियंता एलन बॉन्ड ने बताया कि नई सेबर इंजन प्रणाली में एक कूलिंग तकनीक से हवा इंट्री करेगी जो एक हजार डिग्री सेल्सियस तक .01 सेकंड में ठंडा होगा। इसके कारण मौजूदा क्षमता से काफी उच्च शक्ति पर काम करने में जेट इंजन सक्षम होगा। इससे स्पीड और क्षमता काफी बढ़ जाएगी। यहां आप देख रहे हैं ध्वनि की गति से चलने वाली प्लेन का डिजाइन। अब स्लाइड़स के माध्यम से आगे पढिए। तीन फोटोज पर क्लिक कर अंदर जानें क्या होगी स्पीड और ईंधन के तौर पर किसका होगा इस्तेमाल…

Categories: OMG | Leave a comment

World Architecture Day: ऐसे तैयार हुई थी दुनिया की सबसे ऊंची इमारत

Burj Khalifa》दुनियां 360° news Desk: बेजोड़ इंजीनियरिंग की बात बुर्ज खलीफा का जिक्र किए बिना पूरी नहीं हो सकती। दुनिया की सबसे ऊंची इमारत का खिताब अपने नाम करने वाली दुबई की ये बिल्डिंग विजनरी आइडिया और साइंस का बेहतरीन कॉम्बिनेशन है।
इसके अलावा दुनिया की सबसे ऊंची फ्रीस्टैंडिंग इमारत, सबसे तेज और लंबी लिफ्ट, सबसे ऊंची मस्जिद, सबसे ऊंचे स्विमिंग पूल और सबसे ऊंचे रेस्टोरेंट का खिताब भी बुर्ज खलीफा के नाम ही दर्ज है।

World Architecture Day
3 अक्टूबर यानी आज वर्ल्ड आर्किटेक्चर डे है। Vijayrampatrika.com इस मौके पर आपको दुनिया की कुछ खास स्ट्रक्चर्स के बारे में बताने जा रहा है, इस लेख में पढें मौजूदा सबसे ऊंची इमारत के बारे में।

Burj Khalifa Skyscraper in Dubai
828 मीटर (2,716.5 फीट) ऊंची इस इमारत में 160 फ्लोर हैं। इस बिल्डिंग का कंस्ट्रक्शन 2004 में शुरू होकर 2009 में पूरा हुआ। दुबई के डाउनटाउन में मौजूद इस बिल्डिंग को 2010 में पब्लिक के लिए खोला गया। इसका नाम यूएई के प्रेसिडेंट खलीफा बिन जाएद अल नाहयान के नाम पर रखा गया। यह इस्लामिक आर्किटेक्चर का बेहतरीन नमूना है।

दिए गए फोटोज़ छुएं और अंदर स्लाइड्स में पढें बुर्ज खलीफा के कंस्ट्रक्शन से जुड़े फैक्ट्स……
ये भी पढें: जयपुर की सबसे रंगीन इमारत है ये, केसरगढ़ की दिवाली लाइटिंग रहती बेस्ट
दुनिया की 10 सबसे शानदार इमारतें, नहीं बन सकतीं इनके जैसी

Categories: 》दुनियां 360° | Tags: | Leave a comment

Blog at WordPress.com.

%d bloggers like this: