》जीवन दर्शन

Jeevan Darshan » Religion Content for you. Points Horoscope in Astrology, and We will give: jyotish Gyan, hindu festival, Utsav, Mahabharat, Ramayan, krishna katha, Gita Bhagavad, God’s Mantra, Dharm, upasana, pooja package, etc tags.
You can see here : Diwali, Holi, Janmashtami, radha ashtami, ramnavami, vijaya dashami, vastu, Our Creative Ideas, Unique traditions, Tantra Mantra and Human ‘s Dreams…

मान्यता है शिवलिंग पर ऐसे चावल चढ़ाने से मिलती है मां लक्ष्मी की कृपा, झांकिए

Worship Of Lord Shivaब्रजभूमि । हिन्दू धर्म में भगवान शंकर सांसारिक सुखों से जुड़े सारे मनोरथ पूरे करने वाले देवता हैं। उनकी प्रसन्नता के लिए धर्मग्रंथों में कई व्रत-उपवास बताए गए हैं। कई भक्त अलग-अलग वजहों से व्रत के धार्मिक विधानों का पालन नहीं कर पाते। इसलिए ऐसे भक्तों के लिए जो व्रत नहीं रख पाते हैं। शिवपुराण में बताए अलग-अलग अनाज का चढ़ावा सुख-सौभाग्य व धन सहित कई मनचाहे फल देने वाला माना गया है।

इन उपायों से पहले भगवान शिव की सामान्य पूजा यानी चंदन, बिल्वपत्र, फूल, छोटा सफेद वस्त्र चढ़ाकर करें और इनके साथ यहां बताए अनाज व फूल शिवलिंग पर चढ़ाएं। इन चीजों से कामना विशेष पूरी करते हैं। जानिए कौन सा अनाज व फूल चढ़ाने का उपाय कौन सी चाहत पूरी करता है। इनको चढ़ाते वक्त ये मंत्र स्मरण करना शुभ होगा-

मृत्युंजयाय रुद्राय नीलाकंताया शम्भवे।
अमृतेशाय सर्वाय महादेवाय ते नमः।।

– देव पूजा में अक्षत यानी चावल का चढ़ावा बहुत ही शुभ माना जाता है। शिव पूजा में भी महादेव या शिवलिंग के ऊपर चावल, जो टूटे न हो चढ़ाने से लक्ष्मी की कृपा यानी धन लाभ होता है। इसके अलावा भगवान शिव की पूजा के लिए कुछ और आसान उपाय भी हैं –

» शिव की तिल से पूजा करने पर मन, शरीर और विचारों से हुए दोष का अंत हो जाता है। सारे तनाव व दबाव की वजहे अचानक दूर हो जाती हैं।
» अरहर के पत्तों या दाल से शिव की पूजा करने से तन, मन व धन से जुड़े हर तरह के दु:ख दूर हो जाते हैं।
» शिव को मूंग चढ़ाने से किसी विशेष काम या मकसद से जुड़े विशेष मनोरथ फौरन पूरे होते हैं।
» जौ चढ़ाकर शिव की पूजा अंतहीन व पीढ़ीयों को सुख देने वाली सिद्ध होती है। गैलरी में पिक्स पर क्लिक कर आगे पढ़ें- शिव पूजा के कुछ और आसान उपाय… ..

Advertisements
Categories: 》जीवन दर्शन | Leave a comment

Create a free website or blog at WordPress.com.

%d bloggers like this: