》जीवन दर्शन

Jeevan Darshan » Religion Content for you. Points Horoscope in Astrology, and We will give: jyotish Gyan, hindu festival, Utsav, Mahabharat, Ramayan, krishna katha, Gita Bhagavad, God’s Mantra, Dharm, upasana, pooja package, etc tags.
You can see here : Diwali, Holi, Janmashtami, radha ashtami, ramnavami, vijaya dashami, vastu, Our Creative Ideas, Unique traditions, Tantra Mantra and Human ‘s Dreams…

श्री गणेश का सिर कटने के पीछे ये शाप था कारण, सूर्य को मारा था त्रिशूल

bal ganeshब्रह्मवैवर्तपुराण के अनुसार शनि देव शिवजी और पार्वती को पुत्र प्राप्ति की खबर सुनकर उनके घर आए। वहां उन्होंने पूरे समय अपना मुंह नीचे की ओर झुकाया हुआ था। यह देख पार्वती जी ने उनसे कहा कि आप मेरी या मेरे बालक की तरफ देख क्यों नहीं रहे हो? मैं इसका कारण जानना चाहती हूं। यह सुनकर शनिदेव बोले माता मैं आपके सामने कुछ कहने लायक नहीं हूं, लेकिन ये सब कर्मों के कारण है। मैं बचपन से ही श्रीकृष्ण का भक्त था।

मेरे पिता चित्ररथ ने मेरा विवाह कर दिया वह सती-साध्वी नारी बहुत तेजस्विनी हमेशा तपस्या में लीन रहने वाली थी। एक दिन वह ऋतुस्नान के बाद मेरे पास आई। उस समय मैं ध्यान कर रहा था। मुझे ब्रह्मज्ञान नहीं था। उसने अपना ऋतुकाल असफल जानकर मुझे शाप दे दिया। तुम अब जिसकी तरफ दृष्टि करोगे वह नष्ट हो जाएगा। इसलिए मैं हिंसा और अनिष्ट के डर से आपके और बालक की तरफ नही देख रहा हूं।

यह सुनकर माता पार्वती के मन में कौतूहल हुआ, उन्होंने शनिदेव से कहा कि आप मेरे बालक की तरफ देखिए। वैसे भी कर्मफल के भोग को कौन बदल सकता है। तब शनि ने बालक के सुंदर मुख की तरफ देखा और बालक का मस्तक उसके शरीर से अलग हो गया।

माता पार्वती विलाप करने लगी। यह देखकर वहां उपस्थित सभी देवता, देवियां, गंधर्व और शिव आश्चर्यचकित रह गए। देवताओं की प्रार्थना पर श्रीहरि गरुड़ पर सवार होकर उत्तर दिशा की और गए और वहां से एक हाथी का सिर लेकर आए। सिर बालक के धड़ पर रखकर उसे जोड़ दिया। तब से भगवान गणेश का सिर हाथी रूपी हो गया। अब 4 चित्रों पर क्लिक कर अंदर स्लाइड में पढ़ें क्या कहता है शिवपुराण, क्यों लगा गणेशजी को हाथी का सिर…….

Advertisements
Categories: 》जीवन दर्शन | Tags: | Leave a comment

Blog at WordPress.com.

%d bloggers like this: