ऐसे चढ़ाएं भगवान श्रीगणेश को पेड़ों के पत्ते, हर मनोकामना पूरी होगी

ganesh_chaturthi_pooja》जीवन दर्शन Desk: भगवान गणेश अपने भक्तों की हर मनोकामना पूरी कर सकते हैं। तंत्र शास्त्र के अनुसार विभिन्न पेड़-पौधों व पत्तों से भी भगवान की पूजा करने का विधान है। उसी के अनुसार यदि भगवान गणेश को विभिन्न प्रकार के पत्ते विधि-विधान से अर्पित किए जाएं तो हर चिंता दूर हो जाती है। उसी के अनुसार सबसे पहले भगवान गणेश को शमीपत्र चढ़ाकर ‘सुमुखाय नम:’ कहें।

इसके बाद क्रम से यह पत्ते चढ़ाएं और नाम मंत्र बोलें –

1. बिल्वपत्र ‘उमापुत्राय नम:’
2. दूर्वादल ‘गजमुखाय नम:’
3. बेर ‘लम्बोदराय नम:’
4. धतूरे का पत्ता ‘हरसूनवे नम:’
भगवान श्री गणेश से जुडी़ पूजा-परंपराएं5. सेम का पत्ता ‘वक्रतुण्डाय नम:’
6. तेजपत्ता ‘चतुर्होत्रे नम:’
7. कनेर का पत्ता ‘विकटाय नम:’
8. आक का पत्ता ‘विनायकाय नम:’
9. अर्जुन का पत्ता ‘कपिलाय नम:’
10. मरुआ का पत्ता ‘भालचन्द्राय नम:’
11. अगस्त्य का पत्ता ‘सर्वेश्वराय नम:’
12. वनभंटा ‘एकदन्ताय नम:’
13. भंगरैया का पत्ता ‘गणाधीशाय नम:’
14. अपामार्ग का पत्ता ‘गुहाग्रजाय नम:’
15. देवदारु का पत्ता ‘वटवे नम:’
16. गान्धारी पत्र ‘सुराग्रजाय नम:’
17. सिंदूर या सिंदूर वृक्ष का पत्ता ‘हेरम्बाय नम:’
18. केतकी पत्र चढ़ाकर ‘सिद्धिविनायकाय नम:’
19. कदली या केला ‘हेमतुंडाय नम:’

अंत में दो दूर्वादल गन्ध, फूल और चावल गणेशजी को चढ़ाना चाहिए।

5 सितंबर, सोमवार को गणेश चतुर्थी है। इस शुभ अवसर पर Vijayrampatrika.com आपको भगवान श्री गणेश से जुडी़ पूजा-परंपराओं और उनके जन्म से जुडी़ रोचक कथाओं से अवगत करा रहा है। इस लिंक पर क्लिक करके आप अपनी जिज्ञासा पूर्ण कर सकते हैं… lord Ganesh Spcl.

Advertisements
Categories: 》जीवन दर्शन | Tags: | Leave a comment

Post navigation

Call or paste your point here.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Create a free website or blog at WordPress.com.

%d bloggers like this: