जानिए कैसे हुई आयुर्वेद की शुरुआत, कौन माने जाते हैं इसके जन्मदाता

Gurukul System of Ayurveda: Ayurveda, meaning Knowledge of Life comprises all aspects of Mankind with respect to Maintenance of Health and the management of Diseases. History Ayurveda ...Read here. ..https://vijayrampatrika.wordpress.com/tag/sanskar%C2%B7sanskriti/》जीवन दर्शन Desk: आयुर्वेद का सदियों से हमारे जीवन में महत्वपूर्ण स्थान रहा है। उस दौर में जब आज जैसी औपचारिक/उपचारिक तकनीक मौजूद नहीं थीं, तो प्राकृतिक तरीके से किया गया इलाज (आयुर्वेद) ही कारगर होता था। आज भी आयुर्वेद के जरिए कर्इ बडी़ बीमारियां हमारे पास नहीं फटक पातीं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि आयुर्वेद की शुरूआत कब से हुर्इ और कौन इसके जन्मदाता माने जाते हैं?

Vijayrampatrika.com आज यहां आपको बताने जा रहा है आयुर्वेद और उसके रोचक इतिहास के बारे में। आयुर्वेद आयु और वेद इन दो शब्दों से मिलकर बना है। आयुर्वेद के आचार्यों ने शरीर, इंद्रियां, मन व आत्मा के संयोग को आयु कहा है। इन चारों संपत्ति या विपत्ति के अनुसार आयु के अनेक भेद होते हैं, लेकिन मुख्य रूप से इसे चार प्रकार का माना गया है।
नोट: पूरी दुनिया में 1 जुलाई को WORLD DOCTORS DAY मनाया जाता है। इस मौके पर यहां आपके लिए पेश है भारत के प्राचीन डॉक्टर्स और चिकित्सा से जुड़ा कुछ खास नॉलेज।

1. सुखायु
किसी प्रकार के शारीरिक या मानसिक विकास से रहित होते हुए, ज्ञान, विज्ञान, बल, संपति, यश, परिजन आदि चीजों से समृद्ध व्यक्ति को सुखायु कहते हैं।
2. दुखायु
इसके विपरीत सभी सुविधाओं के होते हुए भी, शरीरिक या मानसिक रोग से पीडित या निरोग होते हुए भी साधनहीन या स्वास्थ्य और साधन दोनों से हीन व्यक्ति को दुखायु कहते हैं।
  Ayurveda has a time-honored history of hundrads of years. Meaning of 'Ayurveda' is 'knowledge or science of life'. Ayurveda evolved in India.3. हितायु
स्वास्थ्य और साधनों से संपन्न होते हुए या उनमें कुछ कमी होने पर भी जो व्यक्ति विवेक, सदाचार, सुशीलता, उदारता, सत्य, अहिंसा, शांति, परोपकार आदि गुणों से युक्त होते हैं और समाज व लोगों के कल्याण में लगे रहते हैं उन्हें हितायु कहते हैं।
4 अहितायु
इसके विपरीत जो व्यक्ति अविवेक, बुरा बर्ताव, क्रूरता, स्वार्थ, घमंड, अत्याचार आदि बुरी आदत रखने वाले समाज के लिए अभिशाप होते हैं, उन्हें अहितायु कहते हैं।

दिए गए फोटोज़ छुएं और अंदर स्लाइड् में पढ़े आयुर्वेद का इतिहास… इससे जुडी़ रोचक बातें...

Advertisements
Categories: 》जीवन दर्शन | Tags: | Leave a comment

Post navigation

Call or paste your point here.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Blog at WordPress.com.

%d bloggers like this: