शनि दोष से मुक्ति पाना है तो यहां जरूर जाएं, यहां घरों में नहीं दरवाजे

पृथ्वीलोक के न्यायाधीश व दंडाधिकारी हैं शनि देव》जीवन दर्शन Desk: भारत में शनि की आराधना और प्रसन्नता प्राप्त करने के लिए अनेक मंदिर हैं। इनमें सबसे प्रसिद्ध मंदिर महाराष्ट्र के अहमदनगर जिले के नेवासा तालुका के गांव शनि शिंगणापुर सोनाई में स्थित है। यह अहमदनगर से उत्तर में लगभग 35 किलोमीटर दूर स्थित है। यहां दूर-दूर से श्रृद्धालु शनिदेव को मनाने के लिए आते हैं।

नोट: शनि जयंती के दिन शनि दोष के निवारण का विशेष महत्व है। इस दिन जो भी शनिदेव की पूजा करता है उसके सभी कष्टों का निवारण हो जाता है। इस बार शनि जयंती 5जून 2016, रविवार को है।

नियम- शिंगणापुर में आने वाले दर्शनार्थियों को यहां पर दर्शन हेतु बनाए गए नियम और अनुशासन का पालन करना अनिवार्य होता है। जिनमें दर्शन के लिए दर्शनार्थी को शरीर के निचले भाग में केसरिया लुंगी या धोती पहनना आवश्यक होता है। साथ ही दर्शन और शनिदेव का अभिषेक गीले वस्त्रों में ही किया जाता है। इन नियमों का पालन सभी पुरुषों को करना होता है। यहां महिलाओं को शनिदेव का अभिषेक या पूजन की अनुमति नहीं है।

मूर्ति- यहां शनिदेव की स्वरूप एक बड़ी काली शिला के रूप में है, जिसे स्वयंभू माना जाता है। इसके पीछे एक प्रचलित कथा है कि भगवान शनिदेव के रूप में यह शिला एक गडरिये को मिली। उस गडरिये से स्वयं शनिदेव ने कहा कि इस शिला के लिए बिना कोई मंदिर बनाए इसी खुले स्थान पर इस शिला का तेल अभिषेक और पूजा-अर्चन शुरु करे। तब से ही यहां एक चबूतरे पर शनि के पूजन और तेल अभिषेक की परंपरा जारी है।

शिंगणापुर में शनिदेव प्रति श्रद्धा, भाव और विश्वास का सबसे बड़ा उदाहरण यह देखने में आता है कि इस स्थान पर घरों में दरवाजे नहीं पाए जाते, न ही लोग अपनी अमूल्य वस्तुओं को सुरक्षित रखने के लिए ताले-चाबी का उपयोग करते हैं। इसके पीछे उनका विश्वास है कि जो कोई चोरी करेगा वह शनिदेव के दण्ड का भागी होगा।

कैसे पहुंचे?
वायु मार्ग – शनि शिंगणापुर जाने के लिए सीधे हवाई सेवा उपलब्ध नहीं है। किंतु निकटतम हवाई अड्डों में औंरगाबाद, पुणे, नागपुर, सोलापुर और मुम्बई प्रमुख है। जहां से रेल या सड़क मार्ग द्वारा यहां पहुंचा जा सकता है।
रेल मार्ग – शनि शिंगणापुर जाने के लिए प्रमुख रेल्वे स्टेशनों में अहमदनगर, नासिक, पुणे और जेजुरी प्रमुख है।
सड़क मार्ग – शनि शिंगणापुर पहुंचने के लिए सड़क मार्ग से जाने के लिए औरंगाबाद, पुणे और नासिक से बस सुविधा उपलब्ध है।

Related Articles:
शनि जयंती: जानिए शनि पूजा की आसान व अचूक विधि
शनिदेव की इस काली प्रतिमा पर तेल चढा़एं
यहां श्रीकृष्ण ने दर्शन दिए थे शनिदेव को
यहां छुपकर डाल पर बैठ गए थे शनि, इस शनिवार करें परिक्रमा

Advertisements
Categories: 》जीवन दर्शन | Tags: | Leave a comment

Post navigation

Call or paste your point here.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Create a free website or blog at WordPress.com.

%d bloggers like this: