कृष्णकथा सीरीज: ‘श्रीमद् भगवत गीता में है सभी समस्याओं का समाधान…’

The Bhagavad Gita (श्रीमद् भगवद् गीता) in Sanskrit with correct Hindi translation of the dialogue between Lord Krishna and Arjun in the battlefield of kurukshetra at the time of Mahabharata indicating the path of attainment of Supreme God and complete liberation by focussed dedicated devotion.》जीवन दर्शन Desk: पवित्र ग्रंथ भगवत गीता में सभी समस्याओं का समाधान है। द्वापर युग में महाभारत के काल में श्रीकृष्ण द्वारा रचा यह एक ऐसी कृति है जो बताती है कि एक ईश्वर ही सर्वव्यापक, सर्वशक्तिमान और सृष्टिकर्ता है।

श्रीमद्‍ भगवद्‍ गीता
परमात्मा का संग ही सत्संग है और सत्संग ऐसी औषधि है जो मनुष्य के दु:खों और बुरे विकारों का नाश करके आंतरिक शांति प्रदान करता है। सच्चे मन से सत्संग करने वालों को प्रभु का आशीर्वाद मिलता है और सत्संग में भाग लेने वाले व्यक्ति की सोच आध्यात्मिक बन जाती है। चूंकि सत्य, विद्या और तप से ही आत्मा की शुद्धि होती है। ईश्वर में विश्वास, सत्य में निष्ठा और अपने आप में विश्वास मानव जीवन के उन्नति के साधन है।

यदि मानव अपने मूल स्वरूप को गहराई तक जानने की कोशिश करे तो उसे प्रेम के सिवा कुछ नहीं मिलेगा। भागवत गीता में यह भी कहा गया है कि परमात्मा सब प्राणियों के हृदय में विद्यमान है। याद रहे आस्था, निष्ठा, श्रद्धा यह सभी प्रेम के धरातल पर ही पोषित होते हैं। हमें प्रेम को विस्तार देना है क्योंकि यही जीवन का आधार है। जब हम जीवन में सब और से निराश हो जाते हैं तब जो आशा की किरण दिखाई देती है, वह प्रेम ही है।

कीकृष्ण-कथा सीरिज में श्रीमद्-भागवत गीता के कर्इ महत्वपूर्ण सूत्र सरल भाषा में समझाए गए हैं। जो न केवल आपकी लाइफ मैनेज करने में बेहतर हैं बल्कि सृष्टि के पालनकर्ता श्रीहरि की महिमा का सतत् प्रर्दशन करते हैं। पढने के लिए यहां क्लिक करें।

‘कृष्णकथा‘ सीरीज में हरिरस का आनंद लें
पाठकों की रुचि को देखते हुए ब्रजभूमि के प्रतिष्ठ हिंदी न्यूज पोर्टल fb.com/vijayrampatrika ने ब्रज काे लेकर कर्इ स्पेशल पेज लॉन्च किए हैं। जिनमें ‘हमारौ ब्रज‘, ‘झलक ब्रज की‘ और ‘कृष्ण-कथा’ के तहत आप श्रीकृष्ण व उनसे जुडी़ संपूर्ण कथाएं और धरोहरों के बारे में जानकारी पा सकेंगे। यहां आपको नियमित राधा-कृष्ण और रासलीला के संबंधित पात्रों की भी सचित्र झलक लेखों में देखने को मिलेगी।

Advertisements
Categories: 》जीवन दर्शन | Tags: | Leave a comment

Post navigation

Call or paste your point here.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Create a free website or blog at WordPress.com.

%d bloggers like this: