अमरनाथ के अलावा भी है ये एक जगह, जहां हैं शिव का प्राकृतिक शिवलिंग

Kailash Mansarovar Yatra video guide. 》जीवन दर्शन Desk: कहते हैं शिव निराकार हैं, इसलिए उनका पूजन लिंग रूप में किया जाता है। मान्यता है कि शिव का निवास हिमालयी क्षेत्र में स्थित कैलाश पर्वत है। इसलिए कैलाश मानसरोवर पूरे हिमालयी क्षेत्र में सबसे अधिक आध्यात्मिक संवेदना वाला माना जाता है। कहा जाता है कि यहां शिव को साक्षात महसूस किया जा सकता है। इसे गणपर्वत और रजतगिरि भी कहते हैं।
मानसरोवर की यात्रा व्यास, भीम, कृष्ण, दत्तात्रेय आदि ने की थी। इसके अलावा कई ऋषि मुनियों के यहां निवास किया है। कुछ लोगों का कहना है कि आदि शंकराचार्य ने इसी के आसपास कहीं अपना शरीर त्याग किया था। शिवपुराण में इसे ब्रह्मांड का केंद्र कहा गया है।

शिवलिंग जैसी है शोभा
जै धर्म में भी इस स्थान का महत्व है। वे कैलाश को अष्टापद कहते है। कहा जाता है कि प्रथम तीर्थकर ऋषभदेव ने यहीं निर्वाण प्राप्त किया था। बौद्ध साहित्य में भी मानसरोवर का उल्लेख मिलता है। कैलाश पर्वतमाला कश्मीर से लेकर भूटान तक फैली हुई है। ल्हा चू झोंग चू पर्वत माला के बीच कैलाश पर्वत है। जिसके उत्तरी शिखर का नाम कैलाश है। शिव के प्रसिद्ध धाम अमरनाथ में तो एक सामान्य आकार का शिवलिंग दिखाई देता है, लेकिन यहां तो पर्वत ही लिंग के आकार का है। कैलाश शिखर की आकृति विराट् शिवलिंग की तरह है। पर्वतों से बने षोडशदल कमल के बीच यह स्थित है।

कैसे पहुंचे कैलाश मानसरोवर-
कैलाश मानसरोवर जाने का मन बनाने में और वहां तक पहुंचने में बहुत फर्क है, क्योंकि ये यात्रा बहुत मुश्किल कही जाती है। हिमालय की चोटियों के बीच से गुजरता ये रास्ता बेहद ही खतरनाक होता है। साथ ही, मौसम खराब होने का खतरा भी बना रहता है।
ये हैं अमरनाथ के 9 दर्शनीय स्थानकैलाश पर्वत तक जाने के लिए दो रास्ते हैं। एक रास्ता भारत के उत्तराखंड से होकर जाता है, लेकिन ये रास्ता बहुत मुश्किल है। दूसरा रास्ता जो थोड़ा आसान है, वो है नेपाल की राजधानी काठमांडू से होकर कैलाश जाने का रास्ता।

Vijayrampatrika.com’s Complete Guide
श्रावण मास भगवान शिव की पूजा के लिए श्रेष्ठ माना जाता है। ऐसे में हम आपको विशेष पैकेज के तहत यहां बताने जा रहे हैं कि नेपाल के रास्ते भगवान शिव के घर कैलाश मानसरोवर कैसे पहुंचे। दिए गए फोटोज़ को क्लिक कर अंदर स्लाइड्स में यात्रा के पहले दिन से अंतिम दिन तक का शेड्यूल आप देख सकते हैं…..

यह भी पढें: हिंदु ही नहीं मुस्लिमों में भी पूजनीय है ये शिवलिंग
बहुत रहस्यमयी है ये गुफा, लग रहा जैसे शिव की जटाओं में गंगा!
ये हैं अमरनाथ के 9 दर्शनीय स्थान, जब जाएं तो मिस न करें इन्हें

Advertisements
Categories: 》जीवन दर्शन | Tags: | Leave a comment

Post navigation

Call or paste your point here.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Blog at WordPress.com.

%d bloggers like this: