कारागाह में बेडियां के बीच कट रहे दिन रात, कभी थी ऐसी संपन्नता-खुशहाली

Narayan Sai's Wife Sheds More Light On His Illicit Relationships》दुनियां 360° news Desk: कभी खुद को स्वयंभू बताने और राजनीतिक गलियारे में अपनी अच्छी कद-काठी बना लेने वाले आसाराम को सलाखों के पीछे रहते दर्जनों माह हो चुके हैं। लेकिन लाख कोशिशों के बावजूद जमानत नहीं मिल सकी है। बता दें कि सदी में एकमात्र, 75 साल के बूढे़ पर नाबालिग बच्ची को हवस का शिकार बनाने के आरोप लगे थे, जिसके बाद उसके फले-फूले अरबों के साम्राज्य की उल्टी गिनती शुरू हो गर्इ।

एक ऐसा शख्स जो एक समय में, हजारों-लाखों लोगों को अपने वचनो-पदेश से अचंभित कर देता था, आज़ एक कारागाह में उसे बेडियों के बीच मुंदा रहना पड़ रहा है। बेशक, आसाराम और उसके साम्राज्य के लिए ये असहनीय (भुगताउ) दौर है, लेकिन कारोबार के मामले में अब भी मस्तक ऊंचा है। हाल ही, उनके पुत्र व उत्तराधिकारी नारायण सांई की पत्नी द्वारा उन्हीं पर रिपोर्ट दर्ज करार्इ गयी है, ऐसे में मुश्किलें बजाए घटने के और बढ़ती नजर आ रही हैं।

Vijayrampatrika.com से विशेष मामले पर विशेष संयोजन…

क्या है मामला, कौन हैं जानकी नारायण?
24 नवंबर, मंगलवार शाम के दिन पुलिस ने एक व्यथित महिला (जानकी देवी हरपलानी) का बयान दर्ज कर लिया, सूत्रों के मुताबिक वह अपने आसाराम और पति नारायण सांर्इ की हरकते-जुल्म से बेहद खफा है। आसाराम के कहने पर उनकी शादी 22 मई 1997 को हुई। इस तरह जानकी नारायण सांर्इं की पत्नी थीं, लेकिन अब वह दोनों बाप-बेटों की शक्ल भी देखना नहीं चाहतीं। रेप पीडि़ता लड़की के अलावा उन्होंने भी नारायण साईं पर स्त्री-प्रताड़ना के आरोप लगाए हैं।

‘संत के नाम पर कलंक है आसाराम’
न्यूज़ चैनल आज़तक से बातचीत में डरी-सहमी जानकी ने कहा कि रेप का आरोपी (मेरा पति) नारायण साईं अय्याश, व्यभिचारी और संत के नाम पर कलंक है। उसने न जाने कितनी लड़कियों के साथ भोग-विलास किया है। जी हां, वह नाबालिग, बालिग और विवाहित महिलाओं को वशीकरण के जरिए, लालच देकर या डरा-धमकाकर संबंध बनाता था। मैं इसका विरोध करती तो मुझे जान से मारने की धमकी देता। मैंने कई बार तंग आकर आत्महत्या का प्रयास किया। मानसिक रूप से प्रताड़ित होने के कारण कई बीमारियों से ग्रसित हो चुकी हूं।’

फोटोज़ छुएं और अंदर स्लाइड्स में पढें आसाराम और नारायण सांईं पर लगे आरोपों और करीबीयों द्वारा किए गए खुलासों के बारे में…..

Advertisements
Categories: 》धडा़धड़ खबरें | Tags: | Leave a comment

Post navigation

Call or paste your point here.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Blog at WordPress.com.

%d bloggers like this: