किसी जमाने में थे 100 आलीशन कक्ष, एक शाप से खंडहर बना राजा का ये महल

एक शाप ने कर दिया इस किले को तबाह, दिन मेंं भी जाने के घबराते हैं लोग  》दुनियां 360° news Desk: 15 नंवबर, सन् 2000 में भारत के 28 वें स्टेट के रूप में बिहार से अलग हुआ झारखंड तेजी से विकास के पथ पर अग्रसर है। 2015 की शुरुआत में जहां राज्य की ग्रोथ 6.50% के आसपास आंकी गर्इ, वहीं 2012 से पहले तक का रिकॉर्ड भी अच्छा रहा।

Vijayrampatrika.com आपको झारखंड के स्थापना दिवस के मौके पर यहां की प्राचीन धराहरों, मंदिरों और उभरते टूरिस्ट स्पॉट्स की जानकारी आपको दे रहा है। इसी कड़ी में आज़ हम आपको बताएंगे यहां एक ऐसे किले के बारे में, जहां कभी 100 आलीशान कमरे होते थे, सांस्कृतिक केंद्र के रूप में अलग ही पहचान थी, लेकिन एक शाप ने राजा सहित पूरे आवास को खंडहर में तब्दील कर दिया…
किले की जगह अब खंडहर हैं, ऊबड़-खाबड़ दीवारें और हींस-करील खडी़ हैं। न सरकार का ध्यान, न ही लोगों को काेर्इ कद्र है..

अब मृत: वो महल, जहां बिजरी से हुर्इ बर्बादी
Pithoria Village, king Jagatpal and his fort
रांची से करीब 18 किलोमीटर दूर पतरातू मार्ग पर एक कस्बा पिठौरिया है। यहां पास ही में राजा जगतपाल सिंह का किले के खंडहर हैं। जिनके दूसरी सदी में बनाए जाने की किवदंतियां रही हैं। उस दौरान यह एक बेहद आलीशान, करीब 100 कक्षों वाला महल हुआ करता था। राजा जगतपाल सिंह का दरबार लगता था और लोगों की चौपाल भी। लेकिन एक शाप ने ऐसा लगा, कि इस स्थान की तस्वीर ही बदल दी। हर साल अब भी यहां आसमान से बिजली जरूर गिरती है। बरसात के दिनों लोग और जानवर भी आसपास दिखार्इ नहीं देते।

ताज्जुब इस बात का है
आसमान से बिजली गिरना एक प्राकृतिक घटना है, आप जानते ही हैं। लेकिन किसी एक विशिष्ट स्थान पर ही अगर बिजली गिरे तो आश्चर्य होगा। यह देश में एकमात्र ऐसा स्थान बताया जाता है, जहां हर साल बिजली गडकती है। यहां दशकों से ऐसा हो रहा है। बिजली हर बार महल का कुछ हिस्सा चटका देती है और यह अस्तित्व खोता जा रहा है।

पुरानी कहानी: यह है राजा जगतपाल सिंह के किले की
आपके मन में यदि राजा जगतपाल सिंह की बरसों पुरानी कहानी को लेकर जिज्ञासा उग रही है तो, दिए गए फोटोज़ छुएं, अंदर स्लाइड्स में पढिए अभी…

Advertisements
Categories: 》दुनियां 360° | Leave a comment

Post navigation

Call or paste your point here.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Blog at WordPress.com.

%d bloggers like this: