दुनिया के सबसे ज्यादा गरीब भारत में, पर घटकर 10% नीचे आर्इ दर

India's poverty rate lowest among nations with poor population: World Bankविश्व में सबसे तेज विकास की रफ्तार वाले देश भारत में गरीब लोगों की आबादी किसी भी अन्य देश से ज्यादा है। लेकिन हाल ही विश्व बैंक ने एक रिपोर्ट में गरीबी की दर को भारत में अन्य गरीब देशों के मुकाबले सबसे कम बताकर राहत दी है।

कितने हैं भारत में गरीब?
विश्व बैंक की समीक्षा और 2014 में गरीबी गणना पद्धति के संसोधित प्रस्ताव के मुताबिक दुनियाभर में कुल गरीबी आबादी 872.3 मिलियन है, जिसमें से 179.6 मिलियन गरीब लोग अकेले भारत में रहते हैं। दुनिया में कुल देशों की संख्या दो सौ के पार है, लेकिन 17 करोड़ से ज्यादा गरीब सिर्फ एक देश भारत में ही हैं। दुनिया के करीब 17.5% गरीब भारत में हैं जबकि 2011 में 20.6% आबादी की हिस्सेदारी थी। यानी तीन साल में 3% हालत ही सुधर पाए भारत के। यूएन की एक रिपोर्ट के मुताबिक सबसे ज्यादा कुपोषण के शिकार भी भारत में हैं।

क्या कहा है विश्व बैंक ने
ताजा रिपोर्ट में बताया गया है कि भारत में गरीबों की आबादी दुनिया की सबसे ज्यादा गरीब जनसंख्या वाले देशों के मुकाबले सबसे कम है। भारत में 2012 में किसी भी देश के मुकाबले सबसे ज्यादा गरीब आबादी थी, लेकिन देश की जनसंख्या में प्रति सैकड़ा गरीबों का औसत बड़ी गरीबी वाले देशों के बीच सबसे कम है। रिपोर्ट के मुताबिक, 2015 में विश्व में निपट गरीबों का औसत गरीब आबादी वाले देशों में सबसे 'अमीर' है भारत: विश्व बैंकघटकर 10 फीसदी से नीचे आ सकता है।

.. यूं मिल सकती है राहत
वर्ल्ड बैंक के मुताबिक इस साल दुनिया भर में गरीबी घटकर 70.2 करोड़ रह जाएगी जो वैश्विक आबादी का 9.6 प्रतिशत है। 2012 में यह आंकड़ा 90.2 करोड़ था जो दुनिया भर की आबादी का 12.8 प्रतिशत हिस्सा था। वर्ल्ड बैंक ग्रुप के प्रेसिडेंट जिम योंग किम ने कहा, ‘यह दुनिया भर में आज की सबसे अच्छी ख़बर है। इन संकेतों से साफ है कि हम मानव इतिहास में वह पहली पीढ़ी होंगे जो गरीबी का खात्मा कर सकती है।’

2030 तक दुनिया को गरीबी से मुक्त करने का लक्ष्य
वर्ल्ड बैंक ने कहा,’पिछले 25 साल से गरीबी घटाने के लगातार कोशिश से विश्व 2030 तक गरीबी खत्म करने के ऐतिहासिक लक्ष्य के करीब रहा है। रिपोर्ट में कहा गया कि भारत में पारिवारों के सर्वेक्षण के लिए अपनाए गए नए तरीके से संकेत मिलता है कि गरीबी और भी कम हो सकती है।

Advertisements
Categories: 》धडा़धड़ खबरें | Tags: | Leave a comment

Post navigation

Call or paste your point here.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Blog at WordPress.com.

%d bloggers like this: