श्री कृष्ण के अवतार हैं गजानन! ये एक रोचक प्रसंग दिलाएगा आपको यकीन

GOD GANESH, Worship Tips by Vijayrampatrika.comकार्यसिद्घ का प्रयास चाहे जो भी हो, गणपति बप्पा सबसे पहले याद आते हैं। हिन्दू धर्मशास्त्रों में श्रीगणेश को भगवान श्रीकृष्ण का ही अवतार बताया गया है। भगवान गणेश के चरित्र से जुड़े इस पहलू को लेकर कई धर्म में आस्थावान लोगों के मन में जिज्ञासा होती है कि आखिर कब और कैस भगवान श्रीकृष्ण महादेव के पुत्र गणेश के रूप में अवतरित हुए? यह रोचक पौराणिक कथा इस जिज्ञासा को शांत करती है –

ब्रह्मवैवर्तपुराण की कथा है कि पुत्र पाने की कामना से व्याकुल मां पार्वती ने भगवान श्रीकृष्ण का स्मरण किया। तब भगवान श्रीकृष्ण ने बूढ़े ब्राह्मण के वेश में आकर माता पार्वती को बताया कि वह श्रीगणेश के रूप में उनके पुत्र बनकर आएंगे।
इसके बाद बहुत ही सुन्दर बालक माँ पार्वतीजी के सामने प्रकट हुआ। उस बालक की सुंदरता से मोहित होकर सभी देवता, ऋषि-मुनि और ब्रह्मा-विष्णु भी वहां आए। शिव भक्त शनिदेव से भी यह सुनकर रहा नहीं गया। वह भी सुंदर शिव पुत्र को देखने की चाहत से वहां आए। किंतु शनिदेव को उनकी पत्नी का शाप था कि वह जिस पर नजर डालेंगे उसका सिर कट जाएगा। इसलिए शनिदेव ने वहां आकर भी बालक पर नजर नहीं डाली। तब माता पार्वती शनि देव के ऐसे व्यवहार से अचंभित हुई और उन्होंने शनिदेव से अपने सुंदर पुत्र को देखने को कहा। शनिदेव ने माता से उस शाप की बात बताई। किंतु पुत्र पाने की खुशी में माता पार्वती ने शनिदेव का कहा नहीं माना और एक बार देखने को कहा।
इस पर जैसे ही शनिदेव ने गणेश की ओर देखा तो उनका सिर कट गया। यह देखते ही सभी अनिष्ट की आशंका से भयभीत हो गए। इस पर भगवान विष्णु जाकर एक हाथी के बच्चे का मस्तक काटकर लाए और उसे श्रीगणेश के मस्तक पर लगा दिया। तब से गणेश गजानन कहलाए।

भगवान गणेश से जुडी़ और कथाओं का प्रसाद लें एक क्लिक पर… »ये हैं भगवान गणेश के पूरे मंगलकारी स्वरूप, अलग-अलग युगों में बदलता रहता है अमरत्व! » यहां मिलेंगी गणेश, लक्ष्मी और शिव के नेत्र वाली पेन »सबसे पहले पूजे जाते हैं ये महादेव के ‘अमर-पुत्र’, जानिए उनकी महिमा

» गनपति देवा, जानिए कैसे हुए एकदन्तिय »गणपति बप्पा की पूजा में न करें तुलसी का प्रयोग, सुबह से शाम तक हैं ये खास संयोग, व्रत के संपूर्ण तरीके »गणेश जी के वाहन कैसे बने मूषकराज, देखिए पुराणों में छिपा राज »ये हैं गणपति बप्पा के 108 नाम, रोज सबेरे पूजन के वक्त इन्हें लेने से दूर होते हैं पाप, मिलती हैं शांति

Advertisements
Categories: 》जीवन दर्शन | Tags: | Leave a comment

Post navigation

Call or paste your point here.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Create a free website or blog at WordPress.com.

%d bloggers like this: