अमरनाथ यात्रा 2015: तीन वे बातें जो पहली बार, जानना चाहेंगे आप

अमरनाथ यात्रा 2015: तीन वे बातें जो पहली बार, जानना चाहेंगे आप#Vijayrampatrika.com》जीवन दर्शन Desk: जम्मू कश्मीर में हिमालय की ऊंची – ऊंची बर्फीली पहाडियों में विराजे बाबा अमरनाथ, भक्तों को एक बार फिर अपनी शरण में बुला रहे हैं। पिछले साल की तुलना में इस बार अधिक तीर्थयात्रियों के यहां पहुंचने का अनुमान है। यात्रा सुगम रहे, इसलिए सरकार ने कुछ नर्इ सुविधाएं बढ़ार्इ हैं। दिक्कत न हों, इसलिए पाबंदियों पर भी ध्यान दिया गया है।

Vijayrampatrika.wordpress.com आज आपको बताने जा रहा है अमरनाथ यात्रा से जुडी़ वे बातें जो पहली बार होंगी, जिन्हें आप जानना चाहते हैं। दो जुलार्इ से शुरू होकर यात्रा इस साल 29 अगस्त तक चलेगी, यानी दो महीने जीभर परिक्रमा करने का अवसर है।

तो अब जानिए वे बातें जिन पर श्राइन बोर्ड और केंद्र सरकार ने दिया है विशेष ध्यान..

1. अमरनाथ केव में भीतर से कर सकेंगे फोन
अप्रैल 2015 के एलान के मुताबिक मोदी सरकार हजारों फीट ऊंचार्इ पर कनेक्टिवटी देगी। अमरनाथ यात्रियों को मोबाइल से बात करना आसान हो जाए, इसलिए बीएसएनएल सहित देश कर्इ संचार एजेंसियाें ने तैयारी की है। सबकुछ ठीक रहा तो श्रद्घालुओं को पूरे रास्ते फोन पर बात करने में परेशानी नहीं होगी। बाबा की गुफा के अंदर से भी मोबाइल की रिंगटोन गूंज सकेगी।

दिए गए फोटोज़ छुएं और अंदर स्लाइड़्स में पढें वे दो बातें, जिनसे आया है अमरनाथ टूर में बदलाव…..
VIJAYRAMPATRIKA ‘S अमरनाथ यात्रा महाकवरेज देखें:
अमरनाथ यात्रा, जिसमें एक हो जाते हैं हिंदू – मुस्लिम !
ये हैं बाबा बर्फानी से जुडे कुछ रोचक रहस्य
पहाडों के सौंदर्य से भरपूर इन 9 जगहों के करें दर्शन

Advertisements
Categories: 》धडा़धड़ खबरें | Tags: | Leave a comment

Post navigation

Call or paste your point here.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Create a free website or blog at WordPress.com.

%d bloggers like this: