आदमी को 5 मिनट में मार सकता है ये सांप, जानें बचाव की STEPS

 Snake Bite First Aid and Treatment | Vijayrampatrika.Comलोगों को जब कोर्इ खतरनाक कीट पतंगे काट लेते हैं तो हाय-तौबा मच जाती है। हो भी क्यों न, अकेले हमारे देश में ही हर साल 2.5 लाख लोग सर्पदंश का शिकार होते हैं। करीब 46 हजार मौतें इसी कारण होती हैं।
यहां सांप काटे की घटनाएं आम हैं, लेकिन उनसे हुर्इ मौतों की वजह है टार्इम पर उचित इलाज का अभाव। कहने को ‘रुसेल वाइपर’; ऐसा सांप जो 5 मिनट में आदमी की जान ले सकता है, से बचाव तभी मुमकिन है जब तुरंत एंटीडोट दे दिया जाए।

Vijayrampatrika.Com यहां आपको बताने जा रहा है सांप के काटने से लेकर इलाज तक की स्टेप्स। साथ ही पढें कब, कहां और बॉडी के किस पार्ट पर ज्यादा काटते हैं सांप, कौन से सांप जहरीले होते हैं, टॉक्सिन होता कौन सी जगह है और भी कर्इ बातें.. .

कब आती है ज्यादा आफत
– कंडे-उपले और पेडों के झुरमुट, ऊबड़-खाबड़ जगह आदि जगह सांप के लिए बढि़या शरणगाह हैं, इसलिए सांप गांवों में ज्यादा मिलते हैं।
– गर्मियों और खासकर वर्षा के सीजन में सांप धरती के बाहर और खुले में रेंगने लगते हैं, आदमी कहां तक सावधानी बरते। भूलवश पैर पड ही जाता है, ये फटाक से काट लेते हैं।
– लेडीज के मुकाबले जेंट्स के सांप से शिकार होने के मामले ज्यादा होते हैं, चूंकि औरतों के मुकाबले वे बाहर ज़्यादा काम करते हैं।
Snake Bites: Types, Symptoms & Treatments | Vijayrampatrika.Com– सर्दियां सांपों के लिए मौत का सबब बन जाती हैं, इसलिए कोर्इ भी खतरनाक कीट-पतंग इस मौसम में उतना नहीं दिखता। पूरे सीजन में सांप बिलों में छुपे रहते हैं।

कैसे और कब काटता है सांप?
ज़्यादातर पैरों और बाहों पर ही काटते हैं। एक रिसर्स के मुताबिक, पैर के निचले हिस्से में काटने के 70% चांस होते हैं। ऐसा इसलिए भी है कि इस भाग तक पहुंचना सांप के लिए आसान होता है।
– आप सही जूते पहनें (लंबे), जुर्राव भी थोडा़ पोइशन प्रूफ होने चाहिए।
– मॉर्निंग एंड नार्इट में जब वो भोजन खोजने बाहर निकलते हैं। इसलिए गमेली जगहों पर आप थोड़ा सावधानी से टहलें।
– टॉर्च साथ में रखनी चाहिए, चौंदे से सांप पास नहीं फटकते।
– मुंह से काटने के अलावा कुछ सांप पूंछ के डंक से भी जहर आपकी बॉडी में पहुंचा सकते हैं, बूट डालकर निकलें।

कितने तरह के सांप, कौन ज्यादा जहरीला?
सांपों की बहुत सारी वैराइटीज़ होती हैं, इंडिया में 300 से अधिक तरह के सांप पाए जा चुके हैं। जहरीली प्रजातियां 50 के आस-पास हैं, लेकिन इनमें से 4 प्रकार के सांप ज्यादा खतरनाक हैं हमारे यहां। पूछो कौन से? कोबरा, वाइपर, करैत और काला नाग।
आमतौर पर काला नाग भारत के हर क्षेत्र में मिलता है, जबकि कोबरा सबसे खतरनाक सांप है। यह वाइपर सांप से भी डेंजर है, काटे पर बचने की संभावना 14%ही है। समुद्री सांप भी ज़हरीले होते हैं, नदियों-तालाबों में हर सांप खतरनाक नहीं होता।

ऐसे करें जहरीले सांप की पहचान
– आपने सांप देखा है? दो ऊपरी दांत जहरीले होते हैं। यदि सांप जहरीला है तो उसके ये दांत देख लें।
– जहां से सांप ने काटा है और उस जगह पर दो ही निशान ज्यादा दिख रहे हों तो समझिए सांप बहुत विषैला था। चार-पांच निशान दिखें तो उतने जहरीले ने नहीं काटा।
Snakebite Prevention and First Aid#Vijayrampatrika.Com– सांप के निचले भाग की खाल से भी सांप को पहचानने में मदद मिलती है। ज़हरीले सांपों में शल्क एक तरफ से दूसरी तरफ बिना टूटे हुए फैले होते हैं। बिना ज़हर वाले सांपों में ये शल्क बीच में विभाजित होते हैं।

भारत में इन सांपों के शिकार ज्यादा होते हैं लोग
– ज्यादा मौतें नाग और करैत के काटने से, इसके बाद हराफिसी, रसेल वाइपर द्वारा हुर्इ हैं। जहां कोबरा और करैत के काटने से दिमाग पर असर ज्यादा होता है, वहीं वाइपर का जहर खून में फैलता है।
– मण्यार सबसे ज़्यादा गुसैल सांप होता है, लेकिन आमतौर सांप तभी काटते हैं, जब उन्हें छेड़ा गया हो।
– एक कारण आपको और बता दें, सांप को सुनता कम दिखता ज्यादा है। कोर्इ चीज जिसे वह ठीक से नहीं देख पाते और वह हिल डुल रही हो तो, खतरा समझकर उस पर चोट करते हैं ये।
– कोर्इ व्यक्ति सीधी गैल जा रहे सांप का रास्ता काटे तो वह व्यक्ति को काट सकता है।
– चारा आदि काटते वक्त सांप हाथ और पैर पर काटलेते हैं, इसलिए घास-फूंस वाली जगह को पहले चेक कर लें।
– किसी को सांप काट ले तो वह आदमी आहत (डर) हो जाता है। ऐसे में वह सांप को पहचान नहीं पाता। दूसरे काटने के बाद सांप और तेज दौड़ते हैं।

किसी को सांप ने काट लिया होतो?
– सांप ने आपको काट लिया। डरने के साथ ही आप उससे गुस्सा हो गए। जब गुस्सा हो गए तो आप उसे तोड़-मरोडकर मारने की कोशिश करेंगे। लेकिन नहीं, ये बात ध्यान रखें कि यदि आपने उसे मार दिया तो आप भी नहीं बचेंगे। ऐसा वरदान सांप को प्राप्त है, ऐसा बुजुर्ग बताते हैं। जिस सांप ने आपको काटा है, या तो उसे कैद कर लें या फोटो खींचलें। इलाज के दौरान वह फोटो डॉक्टर को दिखाएं, पहचानकर दवा देने में सहायता मिल सकेगी।

 आदमी को 5 मिनट में मार सकता है ये सांप, जानें उपचार का 1 TACT!क्या करें और क्या नहीं?
जिस जगह सांप ने काटा है, उसके पास एक चीरा लगा लें। साथ ही, काटने की जगह के दोनों तरफ कस के बांध लें। इससे जहर शरीर में नहीं फैलेगा। इन सबके साथ आधे घंटे के अंदर तुरंत डॉक्टर के पास जाएं। झाड़-फूंक के चक्कर में न पड़ें। जहरीला सांप काटने पर बार-बार आंख बंद होती है, नींद आती है। इस बात का ख्याल रखना है कि आपकी नींद न लग जाए।

देखें सांप के भीतरी भाग और जानें ज़हर से जुडी़ बातें
– सांप का ज़हर दरअसल उसका प्रोटीन होता है। यह प्रोटीन उसे छिपकली, मेंढ़क, घोंघा, चेंटा, छोटे सांप व अन्य जहरीले जीवों से मिलता है।
– सांप के ऊपरी जबडे़ में एक छोटी सी थैली में उसका जहर मौजूद रहता है, जब सांप के सिर पर दवाब आता है तो वह जहर को उगल देता है। दांत काटते हैं तो ज़हर आपके शरीर में प्रवेश कर जाता है।
– वाइपर के दांत अंदर से नलीनुमा होते हैं, इन्जैक्शन की सूई की तरह। इसलिए जब वह काटता है तो ज़हर बहुत तेजी से अंदर जाता है। कोबरा और मण्यार के दांतों में एक खाली ट्यूब होती है।
कितने तरह के सांप, कौन ज्यादा जहरीला? जानें यहां.. Vijayrampatrika.Com– सांप का विष खून से कम लेकिन लसिका मार्ग से ज्यादा चढता है।

ये 4 तत्व होते हैं सांप के जहर में
सांपों के प्रकार के आधार पर आपको दवा दी जाती है, एक दवा से आप हर तरह के सांप का इलाज नहीं पा सकते। लेकिन आमतौर पर सांपों के ज़हर में चार विषैले पदार्थ होते हैं। जो ऐसे चढ़ते हैं : –

– तंत्रिका-विष मस्तिष्क पर असर करते हैं।
– खून के जमने पर असर करते हैं।
– हृदय पर असर करते हैं।
– आस-पास के ऊतकों को खत्म कर देते हैं।

ब्रेन पोइसंस आपके दिल और श्वसन तंत्र पर अटैक करते हैं। मौत का सबसे तेज़ प्रहार यही होता है, चूंकि हृदय की गति रुक जाती है।
– सांप के काटे से अचानक हुर्इ मौत दिल के जीवविष के कारण होती है, मगर कुछ हद तक इंसान भय के कारण मर जाते हैं।

1. Brain Toxin
3 Ways to Treat a Snake Bite - Vijayrampatrika.Com– किंग कोबरा दुनिया का सबसे धांसू सांप है, कर्इ खतरनाक सांप इसका भोजन होते हैं। कोबरा और करैत में ब्रेन टॉक्सिन (मस्तिष्क विष ) होता है और यह लसिका तथा ब्लड से होकर तेजी से शरीर में पहुंचता है। हां उस वक्त आप निओस्टिगमाइन दवा व्यक्ति को दे दें तो लकवा मारने के चांस खत्म हो जाते हैं। इंजेक्शन भी लगवा सकते हैं।

2. Blood toxin
– रसेल वाइपर में ब्लड टॉक्सिन होता है, चंद मिनटों में खून को जाम कर देता है। जब खून आपका जम जाता है तो मसूडों, गुर्दो, फेफडों, पेट, ब्रेन और दिल से वह बाहर आने लगता है। ऑक्सीजन जो कि आपके खून के साथ शरीर में हर वक्त दौड़ती रहती है, थम जाती है। रक्त स्त्राव के एक-दो घंटों के भीतर मौत की नींद लग जाती है। वहीं फुरसा सांप का जहर आदमी के ब्लड को इतना पतला कर देता है जिससे रक्तस्राव होने लगता है। जदर्रा भी ऐसा ही होता है।

Advertisements
Categories: 》IN DEPTH | Tags: | Leave a comment

Post navigation

Call or paste your point here.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Create a free website or blog at WordPress.com.

%d bloggers like this: